Monday, November 27, 2023

शासन के आदेशानुसार ब्लॉक में लगने वाले समाधान दिवस की अधिकारी उड़ा रहे हैं धज्जियां

Must read

कार्तिक पूर्णिमा महोत्सव: आर्यम गुरुदेव ने किया भगवान शंकर आश्रम मसूरी की स्विट्ज़रलैंड शाखा का विधिवत उदघाटन

मसूरी। आर्यम इंटरनेशनल फाउंडेशन, भारत के तत्त्वावधान में स्विट्ज़रलैंड स्थित आश्रम का आज स्वयं की भूमि पर विधिवत श्री गणेश किया गया। कार्तिक पूर्णिमा...

नगर पंचायत की जमीन पर अवैध कब्जा करने वालो के खिलाफ चलेगा अभियान: चेयरमैन डा.आबिद हुसैन

सवांददाता, अजय खत्री जानसठ। नगर पंचायत की जमीन पर अवैध कब्जा करने वालों की कुंडली तैयार करानी शुरू कर दी है। सरकारी जमीन पर अवैध...

जानसठ नगर पंचायत की बोर्ड बैठक हुई आयोजित

सवांददाता, अजय खत्री जानसठ। नगर पंचायत बोर्ड की बैठक अध्यक्ष डा.आबिद हुसैन की अध्यक्षता में आयोजित की गई। बोर्ड बैठक में नगर के विकास कार्यों...

कर्ज मुक्त होना है तो उठाएं ओटीएस योजना का लाभ: एसडीओ रवि कुमार प्रजापति

विद्युत विभाग की वन टाइम सेटलमेंट (ओटीएस) योजना को लेकर उपभोक्ताओं में नजर आ रहा है उत्साह धड़ाधड़ हो रहे पंजीकरण सवांददाता, अजय खत्री...

अजय खत्री, संवाददाता
जानसठ। शासन के आदेश है कि ब्लॉक परिसर में महा के पहले व तीसरे बुधवार को संपूर्ण समाधान दिवस अधिकारियों के द्वारा लगाया जाए तथा क्षेत्र से आने वाले फरियादियों की शिकायतों को गंभीरता से सुनकर उनका समाधान किया जाए। लेकिन ब्लॉक परिसर में प्रदेश सरकार के आदेशों की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। न तों ब्लॉक परिसर में समाधान दिवस का आयोजन किया जा रहा है ना ही समाधान दिवस का कहीं बैनर लगा है। यहां तक की अधिकारी व क्रमचारी ड्यूटी से नदारत रहते हैं। ज्ञात रहे गत दिनों भी जिला अधिकारी के आदेशों का पालन करते हुए उप जिला अधिकारी जानसठ सुबोध कुमार ने ब्लॉक का आकस्मिक निरीक्षण कर ब्लॉक में कार्यालय में नदारत पाए गए अधिकारी व कर्मचारियों को नोटिस भेज कर स्पष्टीकरण मांगा गया था।
उसके बाद भी ब्लॉक अधिकारी व कर्मचारी सुधारने का नाम नहीं ले रहे हैं, जिसके चलते ब्लॉक में आने वाले फरियादी अपनी शिकायत लेकर आते हैं। आखिर अपनी शिकायत किस अधिकारी व कर्मचारी के समक्ष रखें, यह समझ में नहीं आता। पूरे दिन फरियादी इधर से उधर चक्कर लगाते फिरते हैं। यहां तक की ब्लॉक परिसर में प्रदेश सरकार द्वारा महत्वाकांक्षी योजनाओं की जानकारी हेतु बड़े-बड़े होल्डिंग लाखों रुपए खर्च कर लगाए गए। उनका भी रखरखाव वहां के अधिकारी एवं कर्मचारियों के द्वारा नहीं रखा जा रहा है। जिसके कारण सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाएं ग्रामीण क्षेत्र के लोगों तक नहीं पहुंच पा रही है।
मीडिया कर्मियों द्वारा जब वहां जाकर समाधान दिवस की जानकारी लेनी चाहिए तो वहां समाधान में लगने वाले समाधान कक्षा में कुर्सियां खाली पड़ी थी। वहीं हाजिरी रजिस्टर में भी दो-चार कर्मचारियों के द्वारा रजिस्टर में साइन किए। आनन-फानन में मीडिया कर्मियों को देखकर दो कर्मचारी कुर्सियों पर जाकर बैठ गये तथा और कर्मचारियों को फोन कर बुलाते रहे। कर्मचारियों को यह भी जानकारी नहीं कि उनके बीडीओ कार्यालय में हैं या कहीं ओर जगह पर है। एक कर्मचारी द्वारा वहीं बैठे हुए अपने अधिकारी से फोन कर जानकारी ली कि सर कहां हैं आप तो उधर से उन्होंने उत्तर दिया मैं ब्लॉक मोरना पर हूं। कार्यालय पर जनता की शिकायत किस प्रकार सुनी जा रही है, यह आप देख सकते हैं। जबकि प्रदेश के मुख्यमंत्री स्वयं शिकायतों को सुन रहे हैं, लेकिन अधिकारी और कर्मचारी प्रदेश सरकार को बदनाम करने में तुले हैं।
एसडीएम जानसठ सुबोध कुमार से ब्लॉक में लगने वाले समाधान दिवस व कर्मचारियों के समय से न पहुंचने के बारे में फोन पर पूछा गया तो उन्होंने कहा कि शीघ्र ही जांच करा मामले का संज्ञान लिया जाएगा।

Latest News