Monday, March 20, 2023

कैराना में वापस लौटे हिन्दू परिवारों से मिले सीएम योगी, कहा- हमारी नीति जीरो टॉलरेंस की, गोली मारने वालों की छाती पर गोली चली

Must read

मोबाइल की लत बच्चों के लिए नुकसानदायक इसीलिए अभिभावक दे ध्यान, जाने उनकी दिनचर्या : सुशील वत्स

कोरोना ने हमारी जिंदगी को बदल दिया यह कहना तार्किक होगा। एक बड़ा बदलाव पूरी दुनिया में देखने को मिला। लोगों ने एक दूसरे...

रामनिवास सभापति व सुदेश देवी उपसभापति बने

बिनौली कृषक सेवा सहकारी समिति पदधिकारियों का चुनाव बिनौली: कृषक सेवा सहकारी समिति बिनौली के पदाधिकारियों के रविवार को हुए चुनाव में सभापति पद...

स्काउट-गाइड़ कार्यक्रम का समापन समारोह आयोजित

मेरठ। पं. दीनदयाल उपाध्याय मैनेजमेंट कॉलेज के बी.एड़. विभाग में गत एक सप्ताह से चल रहे स्काउट-गाइड़ कार्यक्रम के समापन समारोह का आयोजन किया...

बिजवाड़ा से रणवीर बने संचालक

विकास बड़गुर्जर, ब्यूरो चीफ बिनौली: कृषक सेवा सहकारी समिति बिनौली के संचालक मंडल का चुनाव शनिवार को कड़ी पुलिस सुरक्षा के बीच शांति पूर्वक संपन्न...
  • सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा, ‘उन परिवारों से मिला हूं जो पिछली सरकार के राजनीति के अपराधकरण के शिकार हुए थे। वो अब वापस एक चुके हैं उनमें विश्वास जगा है।’

शामली: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कैराना पहुंचकर उन हिंदू परिवारों से मुलाकात की जिन्होंने बढ़ते अपराध की वजह से जगह छोड़ दिया था। ये परिवार अब वापस लौट आए हैं। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा, ‘उन परिवारों से मिला हूं जो पिछली सरकार के राजनीति के अपराधीकरण के शिकार हुए थे। वो अब वापस एक चुके हैं उनमें विश्वास जगा है। सरकार अपनी रणनीति पर काम कर रही है। बच्चों महिलाओं में विश्वास बढ़ा है।’ मुख्यमंत्री ने कहा, ‘चुनाव अभी दूर है और पीड़ित हिन्दू हैं तो उससे मिलना गुनाह नहीं है।’
सीएम योगी के साथ वो परिवार भी रैली स्थल पर गए जिन परिवारों से सीएम योगी ने मुलाकात की। सीएम ने विजय मित्तल के घर में उनकी पत्नी अदिति और उनसे मुलाकात की है। साथ ही, शिवकुमार जिनकी हत्या हो गई थी उनकी पत्नी रेखा और उनके भाई विनीत से मुलाकात की। इनके अलावा विनोद सिंघल जिनकी दुकान में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी, उनके बेटी, बेटे, पत्नी और भाई से भी योगी आदित्यनाथ ने मुलाकात की।
सुरक्षित माहौल देने में सफल सरकार सफल
योगी आदित्यनाथ ने कहा, ‘2017 के बाद अपराध और अपराधियों के प्रति जीरो टॉलरेंस की नीति के तहत सरकार ने जो कार्रवाई की उसके परिणामस्वरूप इस कस्बे में शांति आई, बहुत सारे परिवार वापस आए हैं। मैंने कुछ उन परिवारों के साथ संवाद किया जो पिछली सरकारों के राजनीतिक अपराधीकरण के शिकार हुए थे।’
शामली में एक रैली को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, ‘सपा सरकार में जिन परिवारों की क्षति हुई और जिन परिवारों के सदस्यों की हत्या की गयी, उनके दोषियों को सजा दी जा रही है और उन परिवारों को पुनः बसने के लिए मुआवजा भी दिया जाएगा। वर्ष 2017 में भी मैं शामली आया था। तब मैंने कैराना के बारे में कहा था कि यहां सुरक्षा का बेहतर माहौल देंगे। आज हम कैराना को सुरक्षित माहौल देने में सफल हुए हैं।’
‘जब निर्दोष हिन्दुओं के घर जले को किसी को जाति नहीं दिखी’
उन्होंने कहा, ‘मुजफ्फरनगर में जब दो निर्दोष नौजवान मारे जाते हैं, तब लोगों को जाति नजर नहीं आ रही थी। वहां जब निर्दोष हिन्दुओं के घर जलाए जा रहे थे, तब जातिवाद की राजनीति करने वालों को उनकी जाति नजर नहीं आई थी। बाबू हुकुम सिंह जी अब हमारे बीच नहीं हैं। उनके खिलाफ झूठे मुकदमे दर्ज होते थे और उन्हें प्रताड़ित किया जाता था।’
उन्होंने कहा, कुछ लोग अब भी तालिबानी मानसिकता को बढ़ावा देकर खुश होते हैं और उस पर ताली भी बजाते हैं। ऐसे लोगों के इन कृत्यों को यूपी में कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।
उन्होंने कहा, ‘तालिबानी मानसिकता को बढ़ावा देने वालों को मारीच व सुबाहु की तरह ही दुर्गति का शिकार होना पड़ेगा। इसमें कोई संदेह नहीं होना चाहिए।’
रैली में अपने संबोधन के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा, ‘कैराना की पहचान उसके संगीत घराने से हुआ करती थी। उस घराने की पहचान और यहां की व्यापारिक पहचान को बनाए रखना भाजपा सरकार की प्राथमिकता है।’
‘किसी अपराधी की हैसियत नहीं कि वो सिर उठाकर चल सके’
उन्होंने कहा, ‘हमारे सत्ता में आते ही कभी कैराना के व्यापारियों और लोगों को पलायन के लिए मजबूर करने वाले अपराधी आज स्वयं पलायन करने के लिए मजबूर हो गए। किसी अपराधी की हैसियत नहीं कि वो सिर उठाकर सड़क पर चल सके। धमकी की बात तो बहुत दूर है।’
सीएम योगी ने कहा, ‘अगर किसी ने व्यापारियों और आम निर्दोष नागरिकों पर गोली मारने का दुस्साहस किया तो गोली उस व्यापारिक और उस नागरिक पर तो नहीं लेकिन उल्टे उसके छाती को भेदते हुए, उसे दूसरे लोक की यात्रा पर भेज दिया।’
‘अब दिल्ली वाले शामली इलाज के लिए आते हैं…’
मुख्यमंत्री योगी ने आयुष्मान योजना की बात करते हुए कहा, ‘पिछली सरकारों में कोई गरीब बीमार होता था तो इलाज के लिए असहाय हो जाता था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आयुष्मान भारत के तहत 5 लाख तक का स्वास्थ्य बीमा दिया है ताकि गरीब का इलाज भी संभव हो सके। 2017 से पहले शामली के लोग इलाज के लिए दिल्ली जाते थे। लेकिन भाजपा सरकार के आने के बाद अब लोग इलाज के लिए दिल्ली से शामली आने लगे हैं। शामली में मेडिकल कॉलेज के निर्माण की भी योजना है।’
‘पीड़ित परिवारों को मुआवजा भी देंगे’
उन्होंने कहा, ‘कैराना विकास के साथ आगे बढ़ रहा है। यहां उद्योग लगाए जा रहे हैं। विकास के लिए निवेश किया जा रहा है। हम तुष्टिकरण की नीति नहीं अपनाएंगे। पिछली सरकार में जिन परिवारों को छति पहुंचाई गई थी, जिनकी हत्याएं हुई थीं, उसके संबंध में मैंने रिपोर्ट मांगी थी, उन पीड़ित परिवारों तो मुआवज़ा भी देंगे।’
योगी आदित्यनाथ ने कहा, ‘कैराना के व्यापारियों, उद्योगपतियों व हमारी बहन-बेटियों ने उनकी सुरक्षा के लिए पुलिस चौकी की मांग की थी। इस मांग को हमने पूरा किया और अब यहां पीएसी की स्थापना भी की जा रही है।’
हर पीड़ित से मिलना उनका धर्म
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रत्येक पीड़ित से मिलना उनका धर्म है। पीड़ित अगर हिंदू समुदाय से हैं, तो उससे मिलना गुनाह नहीं है। सीएम योगी की इस मुलाकात के दौरान बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और मंत्री सुरेश राणा भी मौजूद रहे।
दरअसल, साल 2015 से 2017 के बीच की समय अवधि में करीब 90 हिंदू परिवारों ने कैराना से अपना घर-बार छोड़कर पलायन कर लिया था। उस समय पीड़ित हिन्दूओं के घर के बार लिखीं लाइनें ‘यह मकान बिकाऊ है’ काफी देखने को मिली थीं। मुख्यमंत्री ने पीड़ित परिवारों से मुलाकात के दौरान कहा कि राज्य सरकार ने अपराध पर लगाम लगाया है और यही कारण है कि ये परिवार वापस कैराना लौट आए हैं।

 

Latest News